पारिस्थितिकी तंत्र कानूनी अधिकार और पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएं

तमक्वा नगर, पेंसिल्वेनिया ने पारितंत्रों को कानूनी अधिकार देने के लिए एक कानून पारित किया। इस अध्यादेश कि नगरपालिका सरकार या किसी भी Tamaqua निवासी ने स्थानीय पारिस्थितिकी तंत्र की ओर से एक मुकदमा दर्ज कर सकते हैं स्थापित करता है। रश जैसे अन्य नगर-क्षेत्र, ने भी वाही किया और अपने स्वयं का कानून पारित किया।
कानूनी राय का एक बढ़ती निकाय का हिस्सा ‘जंगली कानून’का प्रस्ताव है। जंगली कानून, यह शब्द कोरमैक कल्लिननद्वारा (दक्षिण अफ्रीका में आधारित एक वकील), पक्षी और जानवर, नदियों और रेगिस्तान का व्याखित किया जाएगा.

पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएं

“मौलिक जीवन-आधार सेवाएँ जिनपर मानव सभ्यता निर्भर करता है,” और यह प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष हो उन्हें पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएं कहते हैं . प्रत्यक्ष पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएँ के उदाहरण: परागण, लकड़ी और कटाव की रोकथाम हैं। जलवायु अनतिक्रम, पोषक तत्व चक्र और प्राकृतिक पदार्थ विषहरण अप्रत्यक्ष सेवाएँ के उदहारण विचार किये जा सकते हैं।

हिन्दू दर्शन में पारिस्थितिक चिंतन

अन्य प्राचीन धर्मो की तरह वैदिक दर्शन की भी यही मान्यता रही है कि प्रकृति प्राणधारा से स्पन्दित होती है। सम्पूर्ण चराचर जगत अर्थात् पृथ्वी, आकाश, स्वर्ग, आग, वायु, जल, वनस्पति और जीव-जंतु सब में दैवत्व की धारा प्रवाहित है। इस दृष्टिकोण का ज्ञान इस बात से होता है कि जब प्रकृति की गोद में स्थित एक आश्रम में पली-पोसी कालीदास की शकुन्तला अपने पति दुष्यन्त से मिलने के लिए शहर जाने लगी तो उसके विछोह से उसके द्वारा सिंचित पौधे व फूल, पोषित मृग अत्यधिक दुखी हुए। यहां तक कि लताओं ने भी अपने पीले पत्ते झाड़कर रूदन करना शुरू कर दिया। उस युग में मानव व प्रकृति के बीच पूर्ण तादात्म्य और सीधा सम्पर्क था। मनुष्य की आवश्यकताएं सीमित थीं और संतोष इतन था कि प्रकृति के शोषण की बात तो वह सपने में भी नहीं सोच सकता था। प्रकृति के साथ घनिष्ठ सम्बन्ध ही सभी धर्मो का मर्म था।
समय के साथ शहरीकरण और औद्योगीकरण के चलते मनुष्य का प्रकृति से सम्पर्क टूटता गया और तथाकथित विकास की अंधी दौड़ में उसकी यह अनुभूति समाप्त हो गई कि प्रकृति भी एक जीवन्त शक्ति है। वैदिक लोकाचार ऐसे समग्र जीवन का उल्लेख करता है, जिसमें शरीर, बुद्धि, मन और आत्मा सभी की आवश्यकताओं का ध्यान रखा जाता हो। शरीर की मूलभूत आवश्यकता है खाना, कपड़ा, मकान और इसके बाद चिकित्सा व अन्य सभी भौतिक सुख-सुविधाएं। मन इच्छाओं का केन्द्र है, जो चाहता है कि इच्छाएं पूरी हों। लेकिन बुद्धि आवश्यकताओं को सीमित करने तथा इच्छाओं को नियंत्रित करने के लिए इस तरह मार्गदर्शन करती है कि प्रकृति के पुनर्चक्रीकरण की प्रक्रिया व सभ्य समाज के महीन तन्तु अस्त-व्यस्त नहीं हों।
श्री गुलाब कोठारी द्वारा मेलबर्न में प्रस्तुत एक शोधपत्र के अनुसार तथाकथित शिक्षित लोग ही पारिस्थितिकी और पर्यावरण समरसता के विनाश के लिए उत्तरदायी होते हैं। वे प्रकृति को जड़ वस्तु मानते हैं जो मानो मानव के उपयोग और “शोषण के लिए ही बनी हो। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा वर्ष 1995 में प्रकाशित जनसंख्या व जीवन स्तर पर स्वतंत्र आयोग इंडिपेंडेंट कमीशन ऑन पापुलेशन एंड क्वालिटी ऑफ लाइफ की रिपोर्ट के अनुसार मनुष्य के अस्तित्व के लिए प्राकृतिक पर्यावरण बहुत महत्त्वपूर्ण है। भावी पीढियों के लिए पर्यावरण का पोषण और देखभाल आवश्यक है, जिसकी उपेक्षा की जा रही है।

Leave a Comment