भक्ति काल हिंदी साहित्य का स्वर्ण युग

भक्ति काल

हिन्दी साहित्य के इतिहास में भक्ति काल महत्वपूर्ण स्थान रखता है। आदिकाल के बाद आये इस युग को ‘पूर्व मध्यकाल’ …

Read moreभक्ति काल हिंदी साहित्य का स्वर्ण युग

निषेधवाचक वाक्य तथा विस्मयादिवाचक वाक्य

जिन वाक्यों में आश्चर्य, हर्ष, शोक, घृणा आदि के भाव व्यक्त होँ, उन्हें विस्मय बोधक वाक्य कहते है। इन उदाहरण …

Read moreनिषेधवाचक वाक्य तथा विस्मयादिवाचक वाक्य

रंगभूमि प्रेमचंद द्वारा रचित उपन्यास का सारांश

रंगभूमि प्रेमचंद द्वारा रचित उपन्यास है। उपन्यास – रंगभूमि लेखक-मुंशी प्रेमचंद पूँजीवाद के साथ जनसंघर्ष व बदलाव की महान गाथा …

Read moreरंगभूमि प्रेमचंद द्वारा रचित उपन्यास का सारांश